आइल बानी तोहरी दुअरिया माई शारदा

0
58

आइल बानी तोहरी दुअरिया माई शारदा
नइँया मोर हवाले बाटे तोहरे माई शारदा

बड़ी लमहर बाटे माई तोहरी डगरिया
कइसे आई सूझे ना कवनो नजरिया
लउकत नइखे कतहु किनारा मोहे मइँया
कइसे पाई तोहके बताव कवनो रहिया
खइले बानी केतना ठोकरिया माई शारदा
नइँया मोर हवाले बाटे तोहरे माई शारदा

घर गिरहस्ति में अड़चन बहुत बा
तबो ध्यान मइया हरदम रहत बा
बड़ी परेशानी में घेराइल बानी मइँया
करी कइसे पूजा परी कइसे पइँया
तनि-मनि बचल बा उमिरिया माई शारदा
नइँया मोर हवाले बाटे तोहरे माई शारदा

भक्तन पर हरदम तू होलु सहइया
गिरते उठावेलु भक्तन के भुइयां
तोहरा दर आइल नादान भक्त गणेशवा
ममता के साया बनाव धई के तू भेषवा
तोहरा भक्ति में भइल भोरहरिया माई शारदा
नइँया मोर हवाले बाटे तोहरे माई शारदा

आइल बानी तोहरी दुअरिया माई शारदा
नइँया मोर हवाले बाटे तोहरे माई शारदा

गणेश नाथ तिवारी “विनायक”

आपन उत्तर छोड़ दी

Please enter your comment!
Please enter your name here