घर गीरहस्ती से त ,हमु जूझऽ तानी

0
233

घर गीरहस्ती से त ,हमु जूझऽ तानी
जिनगी में बड़ा दुख बा ,बुझऽ तानी |

साटत रहऽ चिपि ,कबो ना कबो फाटही के बा
भाग में जेतना लिखल बा , उ त काटही के बा
सुते के केकर ना मन ह?,बाकी उठऽ तानी
जिनगी में बड़ा दुख बा ,बुझऽ तानी |

समय अइसन जोखलस कि, ना उबारा भइल
जिनगी तऽ जइसे ,तरजुइ के बाटखारा भइल
कछले बानी,आंख खोल तानी मुदऽ तानी
जिनगी में बड़ा दुख बा ,बुझऽ तानी |

लमटेन के बुतइला से ,जल्दी बिहान ना होला
पेट के पोसल मैकश ,एतना आसान ना होला
घोसार के आंच प,भुजा लेखा कूदऽ तानी
जिनगी में बड़ा दुख बा ,बुझऽ तानी |

 

*मिथिलेश मैकश

 

 

आपन उत्तर छोड़ दी

Please enter your comment!
Please enter your name here