बिदाई गीत

0
49

सीकिया कै डड़िया
फनाइदा मोरे बिरनू
भिनही चलब
आपन घाट हो

मियना के परदा
उठाइ के जो निरेखब
लउकी आपन
छुटल बाट हो

अमवा तरे अब
न कुहुकि कोयलिया
सूखि जाई महुआ
कै पाग हो

चिरई के जियरा में
अगिया लगाई कै
छोड़ि जाइब गँउआ
जवार हो ।

✍श्लेष अलंकार,
बस्ती, उत्तरप्रदेश।

आपन उत्तर छोड़ दी

Please enter your comment!
Please enter your name here