माई   छोड़    परइलS   बाबू

0
189

माई   छोड़    परइलS   बाबू।
मेहरी   संग  बन्हइलS  बाबू।।

पहिले  तू  रहलS घर तोड़न।
भइलS बाबू अब कुलबोरन ।
बिन पेंदी के लोटा जइसन-
सबका  तू  चिन्हइलS  बाबू।
माई    छोड़  परइलS  बाबू।।

आस   रहे  तोहसे माई के।
जिनगी  रहलS बड़ भाई के।
आस पे पानी फेरलS सबके।
गजबे आज  तितइलS  बाबू।
माई    छोड़  परइलS  बाबू।।

भऊजी  के  तू  लहुरे देवर।
आज बदललS आपन तेवर।
आग लगाके  अपने घर में।
मेहरि  पीछे  लुकइलS बाबू।
माई   छोड़   परइलS बाबू।।

सबके आँख क रहलS तारा।
जइसे जुगनू अउर सितारा।
घर अंधियार बनाके आपन
नीयत  खूब दिखइलS  बाबू।
माई   छोड़   परइलS   बाबू।।

✍️पं.संजीव शुक्ल ‘सचिन’

आपन उत्तर छोड़ दी

Please enter your comment!
Please enter your name here