लोकगीत निरगुनिया भाव

0
426

सोना अरु चानी से चोन्हा गइली बबुनी
माया भँवजाल में बन्हा गइली बबुनी

मानुख के तन पवली राम नाम गावे के
सोरहो सिंगार में हेरा गइली बबुनी

हीरवा के हार आइल रेसम के लहँगा
कोठवा अटार में हेरा गइली बबुनी

सबका से लर जर केहू न आपन बा
मिलल नाहीं किछुओ पेरा गइली बबुनी

ऊपरे से रटत रही पियवा के ठाँव के
आइल जब बोलहटा डेरा गइली बबुनी

बाँस के सवारी बाटे चारि गो कँहरिया
जरना के भीतर गोड़ा गइली बबुनी

पाँच जन मिलिके करेले पचकरमा
अगिनी में जरि के फेंका गइली बबुनी

हाय हाय बिलाप करे बाप महतारी
बहिनी के अँखिया लोरा गइली बबुनी

झूठ के जवानी पर बहुते गुमान रहे
पाता नापाता ओरा गइली बबुनी

✍️अमरेन्द्र कुमार सिंह,
सह सम्पादक, “सिरिजन”।
आरा, भोजपुर, बिहार।