भोजपुरी कविता

पिरितिया  जमीं पर  मिलेला न अइसे

भोजपुरी गजल पिरितिया  जमीं पर  मिलेला न अइसे । कुसुम बन निजन में खिलेला न अइसे ।। इहाँ लोग मालिक अचानक भइल बा। बिना पाँव मरले चलेला...

लोकप्रिय रचना

सोशल चैनल से जुडी

0FansLike
0SubscribersSubscribe

भोजपुरी कविता